​आदत हो गयी है अब तो हम गमोंको कुछ यु छुपाते है,

आंसू आए आंखोमै तो.. उन्हे हसी से बदल देते है,

और वो है.. के हमै देखके कहते है,

के हमारी जिंदगी मे कोई गम नही,

क्योकी उन्होने हमे रोते हुवे जो देखा नही..